अनिवार्य शिक्षा और मजबूत संगठन से ही होगा समाज का सर्वांगीण विकास-राणावत

Latest news of our community.

www.rawnasampark.com

अनिवार्य शिक्षा और मजबूत संगठन से ही होगा समाज का सर्वांगीण विकास-राणावत

  • by Admin
  • 1970-01-01 00:00:00

"भीलवाड़ा 11 अक्टूबर 18 रावणा राजपूत सेवा संस्थान भीलवाड़ा का सामाजिक जाग्रति सम्मेलन जोधड़ास में समाज के आवंटित भूखंड पर आयोजित कार्यक्रम को मुख्य अतिथि संस्थापक अध्यक्ष रतन सिंह राणावत ने समाज की एकता पर जोर देते हुए शिक्षा के प्रोत्साहन के लिए सामाजिक बंधुओ को आगे आने का आह्वान किया..! ओर जब तक समाज मे शिक्षा और संगठन को मजबूत करने का आह्वान किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष भंवर सिंह भाटी ने करते हुए सभी को समाज के बनने वाले सामुदायिक भवन के लिए समाज के लोगो को ज्यादा से ज्यादा सहयोग करने का आह्वान किया। मुख्य वक्ता गोविंद सिंह रावणा ने समाज के राजनैतिक मुद्दे पर विस्तृत चर्चा की और समाज की सत्ता और संगठन में भागीदारी के बारे में अपने विचार व्यक्त किये.! महिला जिलाध्यक्ष निशा कंवर गोड़ ने सभी पधारे हुए समाज बंधुओं का आभार व्यक्त किया और सामाजिक संगठन को मजबूत करने पर जोर दिया..! कार्यक्रम में उपस्थित सभी समाज बंधुओं ने समाज विकास पर चर्चा की और आगे की सामाजिक रणनीति पर विस्तृत चर्चा की । कार्यक्रम में समाज की भूमि के लिए सहयोग देने वाले सभी भामाशाहों का समाज के पदाधिकारियों का माल्यार्पण कर स्वागत किया गया ,कार्यक्रम से पूर्व समाज बंधुओं ने सामुदायिक भवन की नींव का मुहूर्त किया व वरिष्ठ समाज सेवी श्री भेरू सिंह राठौड़ ने प्रस्तावित सामुदायिक भवन के नक्शा ( मानचित्र ) का लोकार्पण किया। मंच संचालन श्री नारायण सिंह भोजपुरा औऱ श्री सुरेश सिंह बिलिया ने किया । कार्यक्रम में महिला जिलाध्यक्ष निशा कंवर गौड, पूर्व युवाध्यक्ष श्रीक्षबाबू सिंह राणावत, महिला संगठन मंत्री कांता कंवर करोई,नीतू कंवर राठौड़, श्री जितेंद्र सिंह कानावत,श्री अमर सिंह टांक, श्री रतन सिंह राठौड़, श्री पिरु सिंह गौड़, श्री रणजीत सिंह बिलिया, श्री हरिओम सिंह खैराबाद, श्री सोहन सिंह,श्री लादू सिंह भाटी, श्री भेरू सिंह राठौड़, श्री शंकर सिंह राठौड़, श्री राम प्रकाश सिंह , श्री सम्पत सिंह, श्री रवि सिंह, श्री लक्ष्मण सिंह, श्री सोहन सिंह, श्री शंकर सिंह, श्री कमल सिंह सहित अनेकसमाज बंधुओ ने भी संबोंधित किया...! अन्त में सभी समाज बंधुओं ने स्नेहभोज करके सामाजिक एकता को बनाये रखने का संकल्प लिया ।"